यह ब्लॉग खोजें

शुक्रवार, 6 नवंबर 2009

कमी खलेगी प्रभाष जी की

पत्रकारिता की दुनिया में प्रभाष जोशी का नाम लंबे अरसे से बडे सम्मान से लिया जाता रहा है। जब भी इस छेत्र में कुछ नये सवाल उठ खड़े हुए प्रभाष जी ने बड़ी उदारता से नई पीढी को उनका उत्तर तलाशने में मदद की। प्रभाष जी के बारे में लिखने को बहुत कुछ है लेकिन आज इस मौके पर नही.......अभी तो बस इतना ही कि हम बेहद गमजदा हैं.

1 टिप्पणी:

  1. प्रभाष जी को हमारी और संस्कारधानी जबलपुर की ओर से विनम्र श्रद्धांजलियाँ .
    - विजय तिवारी ' किसलय '

    उत्तर देंहटाएं

हिन्दी में लिखिए

भारत मैं नक्सल समस्या का समाधान कैसे होगा

समर्थक