यह ब्लॉग खोजें

शुक्रवार, 20 नवंबर 2009

अकेली ना रिपोर्टिंग पर जाया करो

दिल्ली में ट्रेड फेअर की रिपोर्टिंग करने गई एनडीटीवी की रिपोर्टर अंजली को किसी मनचले ने छेड़ दिया। अब मनचला तो मनचला ठहरा उसे क्या पता कि अनजाने में वो जिससे टकरा रहा है वो कोई मामूली लड़की नहीं देश के प्रमुख टीवी चैनल की रिपोर्टर है। फ़िर क्या था इस मामले में जो होना था वही हुआ। अंजली ने मनचले का गिरेबान पकड़ा और जमकर दिए हाथ दो हाथ। अंजली ट्रेड फेअर में जाते वक्त सोच रही थी कि खबर क्या बनेगी। मनचले ने ख़ुद शामत मोल लेकर अंजली को एक ख़बर भी मुहैया करा दी। इस घटना के आधार पर एनडीटीवी ने सवाल उठाया कि ट्रेड फेअर और दिल्ली में लड़कियों की सुरछा के इंतजाम क्या हैं। ये ख़बर निश्चित रूप से उस नॉर्मल खबर से ज्यादा देखी गयी जो अंजली ट्रेड फेअर पर बनातीं। लेकिन इस हादसे के बाद एनडीटीवी में कुछ लोगों ने अंजली को सलाह भी दी है कि आगे से वो अकेली ना रिपोर्टिंग पर जाया करें।
छपाक रिपोर्टर, नई दिल्ली

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

हिन्दी में लिखिए

भारत मैं नक्सल समस्या का समाधान कैसे होगा

समर्थक